Spread the love

सोनू सूद लोक डाउन के दौरान माइग्रेंट वर्कर्स के लिए अपने कामों पर एक बुक लिखने जा रहे हैं यह बुक उनके इमोशनल और चैलेंजिंग साक्षी होगी जिन लोगों ने सोनू की हेल्प की थी यह बुक अभी अनटाइटल्ड है बट पेंग्विन के थ्रू जल्द ही पब्लिश की जाएगी यह साल के अंत तक आ जाएगी सोनू को लगता है कि उनका एक हिस्सा उत्तर प्रदेश बिहार झारखंड असम उड़ीसा एंड उत्तराखंड और अन्य राज्य के के ब्यूटीफुल विलेज में रहता है जहां उन्होंने मजदूरों को उनके घरों तक सेफ्टी पहुंचाया है और उनके फैमिली के साथ उन्हें रियूनाइट करने के लिए हेल्प किए है|

सोनू सूद ने कहा किसी को भी बेघर नहीं देख सकता हूं|

सोनू सूद माइग्रेन के परिवहन 1000 की व्यवस्था करने के लिए अपने गृह राज्य लौटने के लिए व्यवस्था कर रहे हैं। अभिनेता ने कहा कि वह पूरी तरह से केवल प्रेम के लिए ऐसा कर रहे हैं और उन्हें अपने साथ फिर से जोड़ना चाहते हैं।

माइग्रेन के लिए अपने काम को बताते हुए सोनू ने एक इंटरव्यू में कहा मैं आखिरी माइग्रेन को उनके घर तक पहुंचाने का इरादा रखता हूं मैं किसी को भी बेघर नहीं देख सकता हूं हम चाहते हैं कि जो बेघर है वह घर पहुंच जाए सोनू सूद ने आगे कहा मैं उनके बारे में महसूस करता हूं क्योंकि मैं एक माइग्रेन के रूप में मुंबई आया था मैं एक ट्रेन सफर करता हुआ यहां पहुंचा और हर कोई एक नई शहर में एक बेहतर जीवन का सपना देखता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here