फ़रवरी 22, 2020

किडनी फेल होने के क्या लक्षण है, ऐसे करें इसका इलाज

किडनी फेल होने के सामान्य लक्षण ही एक ऐसा जरिया है जिससे हम यह जान पाते है कि किडनी जो हमे लक्षण दे रही है क्या वाकई में किडनी में कोई समस्या है। किडनी की समस्या यानी किडनी फेल होने के लक्षण शरीर के बाकी हिस्सों की तुलना में बहुत अधिक खतरनाक होती है जब किडनी खराब होने लगती है।

तब किडनी कुछ छोटे लक्षण देती है जिन्हें हम अक्सर नजरअंदाज कर देते हैं। किडनी के इन शुरुआती लक्षणों यानी symptoms of kidney failure को जानने के बाद हमें अपने पेसाब और खून की जांच जरूर करना चाहिए, तो आप किडनी फेल जैसी खतरनाक स्थिति तक नहीं पहुँच सकते।

किडनी फेल होने के लक्षण
शरीर मे किडनी

मैं फिर कहता हूं कि किडनी फेल होने की प्रक्रिया को पहचाना बहुत जरूरी हैचेहरे की सूजन, पैरों की सूजन, Kidney failure जैसी समस्या को इंगित करती है, जो कि गुर्दे की बीमारी के कारण सूजन हो जाती है, पलकें की सूजन, जिसे पेरिओरोबिटल एडिमा कहा जाता है, यह आमतौर पर बहुत जल्दी दिखाई देती और यह सुबह में स्पष्ट रूप से दिखाई देता है।

और एक सामान्य लक्षण यह भी है कि भूख की कमी, मतली, उल्टी, भोजन का स्वाद ठीक से नहीं खाना, यह इसलिए है क्योंकि शरीर में अशुद्ध पदार्थ जमा होते हैं और गुर्दे की कार्यप्रणाली के कारण यह सब होता है।

Kidney की Fail होने के कारण रोगियों में उच्च रक्तचाप सामान्य है और यदि Blood pressure 30 वर्ष से कम आयु के लोगी में है या जब स्क्रीनिंग के समय में रक्तचाप बहुत अधिक हो, तो यह Kidney failure की बीमारी का कारण बन सकता है। शुरुआत में थकान यह symptoms देती है कि शरीर में पीलापन किडनी बहुत कमजोर है।

—-×–यह भी पढ़ सकते हैं—–×–
—-×——-×——–×—–×——–

एक बात यह है कि यदि उचित उपचार से एनीमिया का इलाज नहीं हों रहा है, तो यह किडनी फेलियर का संकेत हो सकता है। किडनी की किसी भी तरह की समस्या में पेशाब की मात्रा कम हो जाना, पेशाब में जलन या पेसाब पथ का छोटा पड़ना यानी संक्रमण या पेशाब के रास्ते में पेशाब की समस्या kidney failure के संकेत हो सकते है।

किडनी फेल होने के symptoms यानी लक्षण क्या-क्या है:

आगे जो भी लक्षण Kidney Failure symptoms के बारे में कहा वह हमारे साथ अक्सर आय दिन होते रहते है, इसका मतलब यह नहीं है कि हम गुर्दे की समस्या में फंसे हुए हैं या हमें गुर्दे में कोई समस्या है। अब सवाल यह है कि यह लक्षण बेकार में तो नहीं आते है, तो आप क्या करें कि एक बार अपने खून और पेसाब की जांच एक बार जरूर कर ले।

किडनी फेल होने के लक्षण
किडनी का बाहरी हिस्सा

तो यह स्पष्ट रूप से पता चल जाएगा कि जो लक्षण आप देख रहे हैं, वे वास्तव में गुर्दे की समस्या से संबंधित हैं। यदि ये सभी छोटे लक्षण बार-बार दिखाई देते हैं, तो रक्त और मूत्र की जांच की जानी चाहिए क्योंकि रक्त और मूत्र परीक्षण केवल 500 रुपये में हो जाता है और यदि ये लक्षण लगातार दिखाई देते हैं, तो लक्षण वास्तव में गुर्दे की समस्या से जुड़े है।

अभी जाँच करके बचा जा सकता है लेकीन बाद में 5 सौ रुपये तो क्या बाद में 5 अरब रुपये भी दे देंगे तो यह साफ साफ नही कह सकते कि हमारा किडनी सही होगा और हम स्वास्थ्य हो पाएंगे यदि खून में क्रिएटिनिन और यूरिया की मात्रा का पता चल जाता है, तो गुर्दे के कार्यप्रणाली यानी kidney की functions की जानकारी हमे मिलतीं है।

वैसे भी गुर्दे की कार्यक्षमता शरीर की आवश्यकता से अधिक है। इसलिए, यदि गुर्दे में थोड़ी सी समस्या होती है, तो हमे पता नही चलता है। जब 50% किडनी खराब हो जाती है तो यूरिया और क्रिएटिनिन का पता स्पष्ट रूप से चलता है। किडनी का हृदय, फेफड़े, यकृत और प्लीहा से भी विशेष संबंध होता है, सबसे ज्यादा संबंध हृदय का है।

किडनी फेल होने के लक्षण
किडनी फेल होने के लक्षण

जब हृदय रोग होता है, तो किडनी भी खराब हो जाती है, और जब किडनी खराब हो जाती है, तो उस व्यक्ति का रक्तचाप Blood pressure भी बढ़ जाता है। जिससे व्यक्ति पूरे तरीके से कमजोर हो जाता है। किडनी के रोगियों की संख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है, इसका मुख्य कारण हमारी बीमारियों जैसे कि हृदय रोग, अस्थमा, श्वसन रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या लंबे समय से उपयोग करने वाली अंग्रेजी दवाओं का सेवन करना है।

किडनी फेल होने के लक्षण:

  1. पेशाब आने पर पेशाब न करना एक सामान्य आदत है जो किडनी के लिए बहुत घातक है।
  2. पानी पीना या ज्यादा पानी पीना हम सभी जानते हैं कि कम पानी पीने से हमारे किडनी पर असर पड़ता है, लेकिन पानी एक निश्चित मात्रा में लेना चाहिए। पानी उतना ही पीना चाहिए जितने में हमारी इच्छा खत्म हो जाए।
  3. ज्यादा नमक न खाएं
  4. यदि आपको उच्च रक्तचाप यानी High Blood pressure है, तो आप इसे हल्के में न लें इससे आपको Kidney में बहुत बड़ी समस्या हो सकती है।
  5. शुगर के उपचार में भी आपको लापरवाही नहीं करनी चाहिए इससे किडनी में समस्या हो सकती है।
  6. मांस यानी meat का अत्यधिक मात्रा को भोजन में शामिल ना करें यह गुर्दे की समस्याओं का कारण बन सकती है, इसलिए सभी प्रकार के भोजन को संतुलन में रखें।
  7. दर्द निवारक दवाओं का अधिक सेवन न करें।
  8. ज्यादा शराब नहीं पीनी चाहिए क्योंकि यह आपके लीवर में एक बहुत बड़ी समस्या हो सकती है।
  9. यदि आप शारीरिक या मानसिक रूप से काम करते हैं और थक जाते हैं, तो आवश्यक मात्रा में आराम भी कर लें, अन्यथा यह धीरे-धीरे गुर्दे को प्रभावित करना शुरू कर देगा।. 
  10. सीने में लंबे समय तक दर्द रहने से गुर्दे में समस्या हो सकती है।

एक बात यह भी ध्यान देने वाली है कि यदि आप लंबे समय तक अंग्रेजी दवाओं का सेवन करते हैं, तो आप खुद को Kidney failure की समस्या में डाल रहे है। मैं यह नहीं कहता कि अंग्रेजी दवाएं खराब हैं, लेकिन लंबे समय तक इस्तेमाल करना आपके सिर्फ किडनी ही नही बल्कि बाकी अंगो को भी प्रभावित कर सकती है। अगर आपको संदेह है कि आपको किडनी में समस्या है।

किडनी फेल होने के लक्षण
किडनी तथा शरीर के अन्य अंग

फिर तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, किडनी का इलाज है यह है कि आप सुबह कसरत शुरू करें। सूरज को उगने से कम से कम एक घंटा पहले कसरत करना शुरू कर दें, इससे किडनी फेल होने की समस्या तो दूर होगी ही साथ में शरीर से और भी कई तरह के समस्या भी दूर रहेंगी।

और एक बात जो सबसे महत्वपूर्ण है वह यह है कि यदि आप चाहते हैं कि भविष्य में आपको किडनी में कोई समस्या न हो तो फिर सुबह उठे और एक गिलास ठंडा पानी पीने के बाद कसरत करना सुरु कर दें ।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *