जनवरी 27, 2020

सिर्फ 27 किलोग्राम का है यह मशीन, ISRO को भेजेगा चाँद से फ़ोटो

सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से chandrayaan-2 ने सफलतापूर्वक अपना पूरा काम कर लिया है। उसके साथ ही ही बाहुबली रॉकेट ने भी उड़ान भरी है। बाहुबली रॉकेट में एक रोवर है जिसका नाम है प्रज्ञान प्रज्ञान ही चांद से फोटो भेजेगा।

सिर्फ 27 किलोग्राम का है यह मशीन, ISRO को भेजेगा चाँद से फ़ोटो
प्रज्ञान रोवर

chandrayaan-2 के रोवर प्रज्ञान का जीवन काल

chandrayaan-2 के साथ में जो बाहुबली रॉकेट ने उड़ान भरी है। उसमें एक रोवर प्रज्ञान है। और उसके साथ में एक लैंडर और विक्रम है तथा उसके साथ में एक ऑर्बिटर है। प्रज्ञान चांद पर 500 मीटर तक घूम सकता है और वहां से कुछ फोटो को ISRO तक पहुंचाएगा जहां पर शोध होगा।


chandrayaan-2 के रोवर प्रज्ञान में कुल 6 पहिए लगे हुए हैं। तथा जिसका वजन 27 किलोग्राम का है। महत्वपूर्ण बात यह है कि यह रोवर 50 वाट की इलेक्ट्रिसिटी खुद जेनरेट कर सकती है। एक लूनर डे में 14 अर्थ डे होते हैं। और यह रोवर लगभग एक लूनर डे तक अपने आप को एक्टिव रख सकता है। मैं आपको बता दूं कि यह रोवर सौर ऊर्जा से चलती है।

सिर्फ 27 किलोग्राम का है यह मशीन, ISRO को भेजेगा चाँद से फ़ोटो
रोवर प्रज्ञान: नाम

chandrayaan-2 के रोवर प्रज्ञान की गति

chandrayaan-2 में रोवर की स्पीड प्रति सेकेंड में 1 सेंमी है। प्रज्ञान में कुल 3 रंगों के 6 पहिए लगाए गए हैं। चांद पर प्रज्ञान से बहुत सारे रोवर पहले ही उपस्थित हैं। वहां पर पहले से उपस्थित रोवर को चीन अमेरिका रूस जैसे विकसित देशों ने भेजा था। और यह रोवर वहां से तत्वों और बाकी चीजों को शोध के लिए पृथ्वी पर भेजता है ठीक इसी तरीके से भारत देश के एक रोवर प्रज्ञान जो कि चंद्रयान 2 के साथ गया है।

वह भी वहां से तत्वों को और बहुत सारे अज्ञात तत्वों को भी अपने शोध के लिए ISRO तक पहुंचाएगा।

सिर्फ 27 किलोग्राम का है यह मशीन, ISRO को भेजेगा चाँद से फ़ोटो
रोवर प्रज्ञान

chandrayaan-2 का रोवर चाँद पर करेगा बमबारी

जब भारतीय रोवर प्रज्ञान चांद पर अपना काम शुरू करेगा तब उसने एक चीज शामिल होगा कि शोध करने के लिए या किसी भी तरीके का फोटो लेने के लिए यह रोवर वहां पर अल्फा पार्टिकल्स का बमबारी करेगा। जिसके बाद उसे रोवर में लगे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से बाकी चीजों पर नजर रखते हुए फोटो खींचेगा। और साथ ही कुछ सैंपल्स भी लेगा। जिसके बाद फोटो को इसरो तक ग्रोवर प्रज्ञान द्वारा पहुंचा दिया जाएगा। फेसबुक इंस्टाग्राम, यूट्यूब या ट्वीटर पर सबसे पहले खबरों को जानने के लिए जुड़ सकते है.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *