कल निर्भया मामले में अदालत में हाई वोल्टेज ड्रामा हुआ जहां पहले कोर्ट द्वारा दोषी पवन के वकील की वह याचिका खारिज कर दी जिसमें कहा गया था कि घटना के वक्त वह नाबालिग था. इसके बाद वकील एपी सिंह द्वारा कई अन्य तरीके की दलील भी दी गई और कुछ मिनटों का समय भी मांगा गया लेकिन कोर्ट ने कोई भी बात सुनने से इनकार कर दिया.

आज सुबह 5:30 बजे चारों दोषियों को एक साथ फांसी के फंदे पर लटका दिया गया. फांसी से पहले चारों दोषियों के हाथ-पैर बांध दिए गए और दोषी विनय रोने लगा. इसके बाद चारों दोषियों के चेहरे पर नकाब ढक कर उन्हें फांसी पर लटका दिया. फांसी के सिर्फ 7 मिनट बाद जिलाधिकारी ने चारों के मरने की पुष्टि कर दी. 30 मिनट बाद डॉक्टर ने चारों को मृत घोषित कर दिया.

Just before he died, Nirbhaya had stated his last wish, tears will come from hearing

निर्भया की अंतिम इच्छा

निर्भया ने अपनी आखिरी चिट्ठी अपनी मां को 26 दिसंबर 2012 को लिखी थी. चिट्ठी में लिखा गया था कि वह मौत के मुंह में समा जाना चाहती है. अब वह इस दर्द को और ज्यादा सहन नहीं कर सकती है. निर्भया ने चिट्ठी में लिखा की मां, मैं अब थक गई हूं और सोना चाहती हूं. मुझे बहुत दर्द हो रहा है और डॉक्टर से कहकर मुझे दवाई दिलवा दो. इतना कहते-कहते निर्भया कोमा में चली गई.

आप निर्भया द्वारा लिखी गई अंतिम चिट्ठी और अंतिम इच्छा के बारे में क्या कहना चाहते हैं, अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here