Hindi news: अविवाहित लोगों  से जुड़ी एक खबर आ रही है जिसे हम आपको ‘Hindi news’ में बता रहे हैं.

हाइलाइट्स:

  • गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड होटल में रह सकते है एकसाथ
  • लिव इन रिलेशनशिप में रहना अब अपराध नहीं
  • जस्टिस एमएस रमेश के अनुसार अविवाहित अब रह सकते है साथ 

 Hindi News, मद्रास हाई कोर्ट

भारत देश में अविवाहित लोगों के लिए बहुत सारे कानून बनाए गए हैं.  जोकि गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड या अविवाहित लोग एक साथ होटल में नहीं जा सकते हैं.  सामाजिक बहिष्कार के डर से कोई भी होटल अविवाहित जोड़ों को होटल में ठहरने की अनुमति नहीं देता है. Hindi news today मैं हम आपको यह बताने जा रहा हूं कि सुप्रीम कोर्ट ने अविवाहित जोड़ों को होटल में ठहरने को लेकर क्या नियम में अपडेट किया है. यह फैसला मद्रास हाई कोर्ट की तरफ से आया है. जस्टिस एमएस रमेश का कहना है कि लिव इन रिलेशनशिप में रहने वाले व्यक्तियों पर अपराध की श्रेणी में नहीं आते हैं. विपरीत लिंग के अविवाहित ओं को होटल में एक गेस्ट रूप में रुकने के लिए कोई भी कानून नहीं है.

Hindi news

सामाजिक नजरिया क्या कहता है अविवाहित जोड़ो पर

समाज तथा कानून के नजरो में कभी कभी अविवाहित तथा होटल को दिक्कत हो जाती है.

हमारे भारत देश में आज भी लगभग सभी स्थान पर यह मान्यता है कि कोई भी विपरीत लिंग के व्यक्ति एक साथ नहीं सो सकते हैं.  इसे हमारे धर्म में पाप माना जाता है. भारत में मौजूदा सभी धर्म में यह नियम बड़े ही शक्ति से लागू है. इसी तथ्यों को ध्यान में रखते हुए देश के न्यायालय तथा उच्च न्यायालय तथा न्याय पद्धति कुछ नियम और कानून बनाए हैं जिसके अंतर्गत लोग लिव इन रिलेशनशिप में रह सकते हैं.  परंतु कोई भी व्यक्ति लिव इन रिलेशनशिप में अगर है तो उन्हें आज भी समाज में दूसरे नजर से देखा जाता है. Hindi news

कोई भी व्यक्ति होटल या रुकने के स्थान पर विपरीतलिंग को रहने के लिए एक साथ रूम नहीं दिया जाता है.

बल्कि उन्हें अलग-अलग रूम मिल सकता है. क्योंकि अगर कानून या धर्म के तथ्यों को अगर

कोई भी व्यक्ति नहीं मानता है. तो उस व्यक्ति पर कार्यवाही तो होती ही है साथ में होटल भी बदनाम हो जाता है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here