नरेंद्र मोदी और एनडीए की केंद्र में दबदबा रहते हुए भी बंगाल में ऐसी ऐसी घटनाएं होती ही जा रही है जिनका देश को उम्मीद ही नही रहती है। मंगलवार की शाम कोलकाता में बीजेपी प्रमुख अमित शाह का रोड शो था, इस रोड शो के दौरान हिंसा हुई. इसी दौरान हिंसक झड़पों में कुछ शरारती तत्वों ने कॉलेज में लगी 19वीं सदी के समाज सुधारक ईश्वर चंद विद्यासागर की मूर्ति तोड़ दी। इस मूर्ति के टूटने के बाद बंगाल की सियासत गर्म हो गई है. टीमएसी इसे बंगाली अस्मिता पर हमले से जोड़ रही है।

narendra modi
ईस्वर चंद्र विद्यासागर

इस मूर्ति के टूटने का विरोध सबसे पहले सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट) पार्टी के लोगों ने करना शुरू किया. इस पार्टी के लोगों का ग़ुस्सा बीजेपी के ख़िलाफ़ है।

किसने तोड़ी ईश्वरचंद्र विद्यासागर की मूर्ति?

पार्टी के एक कार्यकर्ता शम्सुल आलम का कहना है, ”बीजेपी और आरएसएस के लोगों ने मूर्ति तोड़ी है. इन्होंने ही कॉलेज के अंदर गाड़ियों में आग लगाई. हिंसा इनकी तरफ़ से ही शुरू हुई. बीजेपी और आरएसएस के लोगों ने दूसरे राज्यों में कई बड़े लोगों की मूर्तियां तोड़ी हैं।

narendra modi
अमित शाह

मूर्ति का टूटना बना चुनावी मुद्दा

ईश्वर चंद्र विद्यासागर की मूर्ति टूटने से प्रदेश भर में नाराज़गी है. विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे निमन रॉय इस हमले को बंगाल की संस्कृति पर हमला बताते हैं. वो कहते हैं, ”ईश्वर चंद्र विद्यासागर का सम्मान पूरा देश करता है और बंगाल में तो उन्हें लेकर काफ़ी आदर का भाव है. उनकी मूर्ति पर हमला बंगाल की संस्कृति पर हमला है।

narendra modi
ममता बनर्जी
—–××–यह भी पढ़ सकते है —-××—
—–××————–××——-

भाजपा में जब से नरेंद्र मोदी आये है तब से यह देख जा रहा है की कोई भी india या उसके पार्टी को गलत नजर से देखते है तो उसका जवाब वे उसी के भासा में देते है। आपको क्या लगता है कि मूर्ति किसने तोड़ी होगी भाजपा या TMC वालों ने। आप अपना राय या सुझाव हमे कमेंट में जरूर बताएं मुझे तो लगता है कि ये सब TMC वालों का कारनामा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here