होली 2019 holi best wishes केे लिए नमस्कार दोस्तों मेरा नाम विकास है और स्वागत है आप सभी का समाचार Book पर, होली का त्यौहार सबसे बड़े त्योहारों में से एक हैं हम सभी बड़े ही मजे से मनाते हैं. होली 2019 के रंगों में इस्तेमाल होने वाले कुछ रसायनों से आपके स्वास्थ्य के आधार पर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का जोखिम बढ़ सकता है। इससे पैरालिसिस, गुर्दे की खराबी और त्वचा के कैंसर जैसी समस्याएं जुड़ी हैं इसलिए आप इस पोस्ट को बड़े ही ध्यान से पढ़े और पूरा पढ़े।

होली 2019 holi best wishes
Colours

होली का त्योहार 20-21 मार्च को पूरे देश में मनाया जाता है। इस मौके पर रंगों, गुलाल, अबीर का जमकर इस्‍तेमाल होगा, मगर केमिकल्‍स से जरा संभलकर रहें। रंगों में आमतौर पर घातक केमिकल्स का प्रयोग होता है जो त्वचा से लेकर शरीर के कई अंगों को भारी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

Black colour:
काले रंग में लेड ऑक्‍साइड होता है जिससे रेनल फेल्‍योर हो सकता है। जो कि किडनी के लिए बहुत ही ज्यादा हानिकारक है. मान लेते हैं कुछ समय के लिए कि यह रेनल फेल्योर में ना बदलता हो लेकिन इससे कोई भी एक ऐसी बीमारी की कड़ी उत्पन्न हो सकती है जो किडनी को धीरे-धीरे समाप्त करने की ओर अग्रसर हो सकता है. और आपको पता ही होगा कि किडनी की बीमारी की समस्या कितनी गंभीर है इसने बहुत ही ज्यादा कष्ट होता है।

होली 2019 holi best wishes
होली 2019

Green Colour:
हरे रंग के लिए कॉपर सल्फेट का प्रयोग किया जाता है, इससे आंखों में एलजी, जलन, कुछ समय के लिए अंधापन भी हो सकता है। यह समस्या भी बहुत बड़ी है क्योंकि आंख में प्रॉब्लम होना या कोई छोटी प्रॉब्लम नहीं है इससे कोई ना कोई आंख में बीमारी होने की एक कड़ी बन सकती है जो आगे चलकर बहुत ही बड़ा नुकसान आप को कर सकता है।

होली 2019 holi best wishes
गुलाल

Silver coulor:
चांदी वाले रंग में एल्‍युमिनियिम ब्रोमाइड इस्‍तेमाल होता है, इससे कैंसर तक हो सकता है। कैंसर मतलब किसी भी तरीके का कैंसर हो सकता है जैसे कि स्किन कैंसर, ब्लड कैंसर या किसी भी तरीके का कैंसर जो कि बहुत ही घातक घातक है और इसका इलाज बहुत ही ज्यादा दुर्लभ है यह धीरे-धीरे आपको बहुत ही ज्यादा कमजोर कर सकता है।

Blue Colour:
नीले रंग में रशियल ब्लू नाम का केमिकल प्रयोग किया जाता है जो त्‍वजा के लिए एलर्जी का सबब बनता है। त्वचा में और भी तरीके की बहुत सारी बीमारियां हो सकती है जैसे की स्किन पर बहुत सारे झूर्रियां निकलना यह खून को भी प्रभावित करती है. अकारण कभी-कभी त्वचा पर बहुत सारे फोड़े फुंसियां भी निकलने लगती है जिससे कि त्वचा बहुत ही ज्यादा बदसूरत दिखने लगता है इसमें सबसे ज्यादा हाथ ब्लू कलर का होता है।

होली 2019 holi best wishes
होली में रंग खेलता लड़का

Red Colour:
लाल रंग के लिए मर्करी सल्फाइट रसायन का इस्‍तेमाल होता है तो त्‍वचा के कैंसर की वजह बन सकता है। रेड कलर में अगर मरकरी सल्फाइड रसायन का अगर ज्यादा इस्तेमाल किया हुआ होता है तो यह कैंसर का एक बहुत बड़ा कारण हो सकता है कैंसर धीरे-धीरे फैलाता है जो कि बहुत ही बड़ी बीमारियों में से एक है और इसका भी इलाज बहुत ही ज्यादा दुर्लभ है।

होली 2019 holi best wishes अब हमें किन किन रंगों का इस्तेमाल करना चाहिए या नहीं

इन सब दुष्प्रभावों से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि हर्बल रंगों का प्रयोग करें। होली के रंगों में इस्तेमाल होने वाले कुछ रसायनों से आपके स्वास्थ्य के आधार पर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का जोखिम बढ़ सकता है। इससे पैरालिसिस, गुर्दे की खराबी और त्वचा के कैंसर जैसी समस्याएं जुड़ी हैं इसलिए सावधान रहें।

होली 2019 holi best wishes
होली के त्योहार में लगाए जाने वाला गुलाल

रंगों से यदि केमिकल या पेट्रोल की गंध आए तो उन्हें न खरीदें। यदि रंग पानी में घुलता नहीं है तो उनमें केमिकल हो सकता है, बेहतर होगा उन्हें न खरीदें।

ऑर्गेनिक रंगों में चमकदार कण नहीं होते हैं और वे गहरे रंगों (डार्क शेड) में उपलब्ध नहीं होते हैं। इसलिए सिल्वर, गहरा पर्पल या काला रंग न खरीदें, हो सकता है कि वे प्राकृतिक रंग न हों।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here