फ़रवरी 22, 2020

133 करोड़ में सिर्फ 60 करोड़ लोगों के वोट देने का सच

वोट कैसे करें यह एक सवाल है, हमारे देश मे ही नही बल्कि कई देशों में अक्सर यह देखा जाता है कि जितने वास्तव में मतदाता होते है। उतना वोट लोकतंत्र में नही जाता है उसी में हमारा देश भारत है जो कि एक विशाल लोकतांत्रिक देश है। कई तरह के धर्म-जाती के लोग रहते है जहाँ कई बार मतभेद हो जाते है। लोग अपने धर्म के स्वाभिमान के लिए सामने वाले को जान से मारने के लिए भी तुले रहने लगते है।

वोट कैसे करें
वोट कैसे करें

अपने वोट के ताकत को समझें

और इसका पूरा फायदा हमारे नेता उठाते है जिसका उपयोग सही शक्ति में जाती है या कभी बुरे पार्टी को चली जाती है जो उस एकतरफा विचारधारा को अपने हिसाब से इस्तेमाल करते है। इसी का एक जीत जागता उदाहरण है पश्चिम बंगाल में तृण मूल कांग्रेश और भाजपा में लड़ाई।

यही सबसे मेन फैक्टर बनता है सामाजिक बटवारे का ये नेता लोग हमें बाँट कर के हमसे हमारा वोट ऐंठते है जो हमारे लिए बहुत कीमती वोट होती है और उसका कभी गलत इस्तेमाल हो जाता है तो कभी सही।

2019 के चुनाव में इतना कम वोट

और यही कारण है कि हमारे देश की लोकतांत्रिक राजनीति में बहुत कम लोग वोट देने जाते है। या मतदाता जाते भी है तो वो NOTA को चुन लेते है। क्योंकि उन्हें कोई भी राजनेता पसंद नही होता है इसलिए देखा जाय कि 2019 के लोकसभा चुनाव में बहुत ही कम लोगों ने मतदान किये है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *